Hide Button

सैमी टिपिट सेवकाई निम्‍नलिखित भाषाओं मे आपको यह विषय प्रदान करती है:

English  |  中文  |  فارسی(Farsi)  |  हिन्दी(Hindi)

Português  |  ਪੰਜਾਬੀ(Punjabi)  |  Român

Русский  |  Español  |  தமிழ்(Tamil)  |  اردو(Urdu)

Sammy's Blog
परमेश्वर की ओर से एक भेंट

रायन हॉल ही वो एक मात्र अमरीकी हैं जो एक घंटे से भी कम समय में हाफ मॅरेथॉन दौड़े हैं. और इस हफ्ते, वो अब अमेरिका के सबसे कम समय में मॅरेथॉन दौडनेवाले व्यक्ति हैं -२:०४:५८ में. अद्भुत है, २६.२ मील, वो भी २ घंटे ५ मिनट से भी कम समय में. ये सामान्य रूप में २६ मील तक ४ मिनट ४६ सेकंड प्रति मील की रफ्तार थी. लेकिन और भी अद्भुत बात थी – दौड़ते वक्त उनकी मनोदशा.

मेरी किताब “द रेस” के लिए मैंने रायन की इंटरव्यू ली. तब उन्हें बोस्टन मॅरेथॉन दौडकर एक साल हो चुका था. उन्होंने मुझ से कहा, “मैंने यही प्रार्थना की थी कि जब दौडूंगा और उन मुश्किल समय से जाऊंगा, तब मै परमेश्वर की उपस्थिती में रहूँ. मै उन मुश्किल पलों में उसके साथ रहने के लिए मार्ग खोजने लगा क्योंकि जब भी मै प्रभु की उपस्थिति में रहता हूँ, मुझे हमेशा आनंद महसूस होता है. मै सोचता हूँ की ये आनंद पाने का सबसे उत्तम तरीका है – केवल जुड जाएं और उसकी उपस्थिति में रहें.”

रायन ने कहा कि सोमवार की बोस्टन मॅरेथॉन अद्भुत दौड थी क्योंकि इसके पहले दौड़े सब लोगों से वो सबसे तेज़ दौड़े थे. फिर भी वो उस व्यक्ति को नही देख पाए जो ये रेस जीता था क्योंकि वो बहुत आगे निकल चुका था. विजेता, केनिया के जेफ्री मुताई थे, उन्होंने आज तक के इतिहास में ये २६.२ मील सबसे कम समय में पूरा किया – २:०३:०१ में. इतिहासिक दौड दौड़ने के बाद मुताई ने कहा, “मै इसे परमेश्वर की ओर से एक भेंट के रूप में देखता हूं. मेरे पास इससे ज्यादा कहने के लिए शब्द नही हैं.”

हॉल और मुताई दोनों दौड़ने की अपनी योग्यता को परमेश्वर की ओर से भेंट के रूप में देखते हैं. मेरी किताब के लिए, लिए गए हॉल के इंटरव्यू में मैंने उन से पूछा कि वो क्यों दौड़ते हैं. उन्होंने कहा, “मै महसूस करता हूँ कि परमेश्वर ने मुझ से कहा कि उसने मुझे एक भेंट दी है और इस भेंट का उपयोग दूसरे लोगों कि मदत के लिए करना चाहिए. इसलिए, मै उसे पूरा करने के लिए दौड़ता हूँ. और जैसे मै इस के पीछे जाता हूँ, मुझे जीवन की भरपूरी और आनंद की भरपूरी मिलती है...”

हॉल और मुताई में एक बात समान है. सोमवार के दिन रेकोर्डस तोड़ने से बढ़कर, दोनों ने अपनी योग्यता को “परमेश्वर की भेंट” के रूप में देखा. सच्चे विजेता अपने जीवन में इसे पहचानते है कि उनकी योग्यता परमेश्वर की भेंट है, वो इस योग्यता का उपयोग ऐसे तरीके से करते है जिससे उसे महिमा मिलती है. हॉल और मुताई केवल मॅरेथॉन के विजेता नही हैं, लेकिन जीवन के विजेता भी हैं.

Bookmark and Share
0 टिप्‍पणीयां
ब्‍लांग को खोजना
देखें कि कौन बात कर रहा है
हमारे लेखों पर सबसे अधिक टिप्‍पणीयों की एक झलक
जोड़ना