Hide Button

सैमी टिपिट सेवकाई निम्‍नलिखित भाषाओं मे आपको यह विषय प्रदान करती है:

English  |  中文  |  فارسی(Farsi)  |  हिन्दी(Hindi)

Português  |  ਪੰਜਾਬੀ(Punjabi)  |  Român

Русский  |  Español  |  தமிழ்(Tamil)  |  اردو(Urdu)

news

जीवन की दौड़ के लिऐ भारतीय पासबान जागरुक हुऐ

हाल ही मे भारतीय प्रदेश तामिलनाडु मे सैमी टिपिट ने २ पासबान संमेलन का आयोजन किया/ इन २ संमेलनो मे लगभग २००० पासबान शामिल हुऐ और परमेश्वसर की दी हुई दौड़ के लिऐ बल पाया/ पहली संभा मदुरें मे थी जिसमे लगभग ५०० पासबान शामिल हुऐ/ दूसरा संमेलन चन्ने/ई मे हुआ जिसमे लगभग १३०० पासबान शामिल हुऐ/

Sammy preachesदौड़ के विष्यर में टिपिट के संदेश को पासबानो ने ध्याशन से सुना। एक अनुवादक ने कहाँ,‘अनुवाद करना बहुत मुशकिल था। सेवकाई में मैं कुछ कठिन समय से गुज़र रहा हुँ। यह संदेश विशेष करके मेरे लिऐ है। दूसरे पासबान ने कहा इसी संदेश की यहाँ जरुरत है।

टूटेपन का आत्मा. सभा में फैल गया। बेदार और जीवन की कठिन पहाड़ी पर चढने का परमेश्वrर से बल पाने के लिऐ पासबानो ने प्रार्थना में समय बिताया। भारतीय पासबान डाँ:D.S.Spurgeon ने भी संदेश दिया। आदरणीय पासबान ने उन्हे उत्सा।हित किया की परमेश्वकर की बुलाहट के प्रति वह वफादार रहे।

Praying टिपिट ने कहा की परमेश्वंर तामिलनाडू ने बेदारी भेजना चाहता है। भारत में यहीं से मसीहत फैली। संन्तक पौल पहले सुसमाचार यही लाया। मै प्रार्थना करता हूँ की परमेश्वतर इस पीढ़ी में अपने लोगो को बेदार करे।

परमेश्व्र की बाट जोटने पर टिपिट के निमंत्रण को काफी पासबानो ने प्रतिउतर दिया ताकी वह नया बल प्राप्त् कर सके। कई पवित्र आत्मा के गहरे काम के लिऐ पुकारने लगे। टिपिट ने कहाँ ‘मैं विश्वातस करता हूँ की र्चच के इतिहास में भारत सबसे बड़ी बेदारी देखेगा। लोग भुखे है। यह देश महान अर्थशास्त्रो में उभर रहा है और संसार का सबसे बडा प्रजातंत्र है। यह सब चरित्र इस देश को आत्माअ की हवा के बहाव में सिधा आता है।