Hide Button

सैमी टिपिट सेवकाई निम्‍नलिखित भाषाओं मे आपको यह विषय प्रदान करती है:

English  |  中文  |  فارسی(Farsi)  |  हिन्दी(Hindi)

Português  |  ਪੰਜਾਬੀ(Punjabi)  |  Român

Русский  |  Español  |  தமிழ்(Tamil)  |  اردو(Urdu)

devotions
बेदारी जीत को लेकर आती है

”क्या तू फिर से हमें बेदार नहीं करेगा कि तेरे लोग तुझ में आनन्दित हो सके” (भजन संहिंता 85ः6) बहुत वर्ष पहले मैनंे एक पास्टर को कहते हुए सुना कि वह अक्सर ही अपने लोगों को सड़क पर मिलता था, और उनको वह दुखी व हारे हुए देखता था। वह उन्हें अक्सर ही यह साधारण प्रशन पूछता था, आपका क्या हाल हैं ? वह अक्सर ही उतर देते थे, “हालात के आधीन ठीक हैं“ फिर पास्टर उन्हें उसी समय पूछता था, “तुम उन के आधीन क्या कर रहे हो ? क्या तुम यह नहीं जानते कि तुम मसीह के साथ स्वर्गीय स्थानांे के लिये उठा लिये गए हो?

उसके सवाल जो हिलाने वाले थे सीधे निशाने पर लगते थे। मसीह जीवन सिर्फ अनोखे हालातों के द्वारा नहीं है। यह पीड़ा, दर्द और गम की पीड़ा से बचना नहीं हैं। इसकी बजाय मसीह जीवन ऐसा है कि यह आपको हालातों के अनुसार जीवन जीने की शक्ति देता है, पर यह उनको अनुमति नहीं देता है कि वह आपको निराशा में खींच लें। एक जयवन्त मसीह होने के पर, आपको हालातों के आधीन जीने की जरूरत नहीं है। आप उनमें जी सकते हो, आप के पास यह योग्यता हैं कि आप उनसे उपर उठ पाओ।

मैं अक्सर उन लोगों को मिलता हूं जो कि प्रभु को प्यार करते हैं। वह परमेश्वर के सच्ची सन्तान हैं, पर फिर भी वह हारे हुए हैं। उन से वह आनन्द लूट लिया गया जो कि मसीह जीवन के लिये चाहिए। वह अपने जीवन में एक बेदारी की बहुत ज्यादा जरूरत में खड़े हैं। भजन सहिंता लिखने वाले ने लिखा हैं, “क्या तू फिर से हमें बेदार नहीं करेगा कि तेरे लोग तुझ में आनन्दित हो सके“ ?

मसीह जीवन उम्मीद रहित नहीं हैं। परमेश्वर तैयार खड़ा हैं कि वह अपने लोगों को बेदार करें। वह हमें जयवन्त करने के लिये तैयार हैं। बेदारी और जीत आपस में जुड़े हुए हैं। बेदारी का अर्थ कि परमेश्वर अपने लोगों को अपनी पहचान करवा रहा हैं, जब परमेश्वर अपने लोगो को मिलता हैं, तो इस के अन्त में बहुत ज्यादा खुशी मिलती हैं। यह वह समय होता हैं, जब उसके लोग आनन्दित होते हैं। क्योंकि परमेश्वर ने उनको जयवन्त किया होता हैं, हमारे बीच में बहुत से लोगों ने उम्मीद छोड़ दी हैं, पर हमें यह करने की जरूरत नहीं हैं। परमेश्वर अभी भी अपने सिंहासन में विराजमान हैं। वह बहुत ही योग्य है कि वह अपने लोगों को बेदार कर सके - वह बहुत ज्यादा इस योग्य हैं कि तुम्हारें मन को बेदार कर सके। डैल फैहसनफैल्ड जूनियर का काॅल 1970 में अमेरिका के बीच बेदारी का बोझ था। उस ने कोशिश की वह बेदारी का संदेश पूरे अमेरिका की कलीसियाओं के बीच में ले जा सके। बेशक डैल कई वर्ष पहिले मर गया हैं, पर उसका संदेश अभी भी चल रहा हैं। असल मे उसके काम को लाइफ ऐक्श्न मनिस्ट्री कहा जाता हैं और शायद यह अमेरिका की आत्मिक जागृति के लिये सब से बड़ी संस्था हैं। मिस्टर डैल ने एक बार कहा था, ”जब तक परमेश्वर अपने सिंहासन के उपर हैं, बेदारी की संभावना उतनी ज्यादा हैं जितनी ज्यादा संभावना कल सुबह सूरज उद्य होने की हैं