Hide Button

सैमी टिपिट सेवकाई निम्‍नलिखित भाषाओं मे आपको यह विषय प्रदान करती है:

English  |  中文  |  فارسی(Farsi)  |  हिन्दी(Hindi)

Português  |  ਪੰਜਾਬੀ(Punjabi)  |  Român

Русский  |  Español  |  தமிழ்(Tamil)  |  اردو(Urdu)

devotions
परमेश्वर के द्वारा हैरान होना

अगर मैं अपनी गवाही की झलक दूँ तो वो यह होगी “परमेश्वर के द्वारा हैरान हो जाना”। बहुत वर्ष पहिले मेरी कोई आत्मिक रूचि नहीं थी। मुझे हाई स्कूल के 30 बच्चों के साथ चुना गया। जो लुसियाना में था। कि वह संयुक्त राष्ट्र में जाकर अध्ययन करेगें। मैंने प्रवक्ता के मुकाबले में प्रवेश किया। पूरी दुनिया में मुझे उतरी अमेरिका का सबसे अच्छा प्रवक्ता चुना गया। मैंने अमेरिका और कनाडा में अगले वर्ष संसार में शांति की जरूरत हैं, बोलने के लिये यात्रा की, पर एक बड़ी समस्या थी के मेरे अपने मन में बिलकुल शांति नहीं थी। मैंने देखा कि मैं अपने खालीपन को शराब और अनैतिकता, और ताकत की भूख से भरने की कोशिश कर रहा था, परन्तु यह बातें मुझ में कुछ भी काम नहीं कर रही थी।

एक समय था, जब मैं परमेरूवर के द्वारा हैरान किया गया। मेरी दोस्त के माता-पिता ने मुझे बहुत समझाया कि हम एक शाम चर्च में चले। बेशक मैं परमेश्वर को ढंूढ़ नहीं रहा था, परन्तु परमेश्वर मुझे ढूंढ़ रहा था। जब मैंने एक प्रचारक को मसीह मेरी जरूरत हैं बातें करते सुना तो उसके संदेश ने मेरे दिल को चीर के रख दिया और मैंने उसका प्रतिउतर अपने दिल को खोलने के द्वारा दिया और वह मेरे जीवन में आ गया, उसने मुझे पूरी तरह से बदल दिया। मेरे एक मित्र ने मुझ से कहा( “टिपत मैं तुझे दो सप्ताह का समय देता हूँ तू वापिस इसी जीवन में आ जाएगा”। क्या आपको मालुम हैं 45 वर्ष हो गए हैं और मुझे यह कहना पडे़गा कि आज मैं यीशु को इतना प्रेम करता हूँ जितना मैंने कभी नहीं किया।

उसने मुझे हैरान ही नहीं किया परन्तु सम्भाला भी। मैंने कभी सपना नहीं देखा था कि अगले 45 वर्षों में परमेश्वर मुझे स्टेडियम और पूरी दुनिया के खेल के मैंदानों में लेकर जाएगा। उसने मुझे अनुमति दी कि जो लोग इस संसार में मर रहे और खोए हुए हैं उन्हें आशा में लेकर आऊं। मैं एक आन्दोलन से गुजरा हूं और मैं तीन बार गिरफतार हो चुका हूँ एक लड़ाई के बीच में परमेश्वर के प्रेम का प्रचार करते हुए गुजरा हूं।

उन दिनों में परमेश्वर मुझे तैयार कर रहा था कि मैं परमेश्वर के संदेश को खोए हुए और संसार के मुर्दा लोंगो में ले जा सकूं। जिन्हें उसकी बहुत जरूरत थी। उसने मुझे हाई स्कूल के विधार्थी के रूप में सुसमाचार के द्वारा हैरान कर दिया। उस समय के बाद मैं पहले जैसा नहीं रहा। मसीह जीवन एक महान सामर्थ का कार्य कर रहा हैं। इसने मुझे बार-बार हैरान किया हैं, उसने एक बार (भजन संहिता) लिखने वाले से कहा था “थम जाओ और जान लो कि मैं ही परमेश्वर हूँ मैं जातियों में महान किया जाऊंगा”। उस शांत स्थान में थम जाओ और परमेश्वर की आवाज को सुनो। तुम शायद हैरान हो जाओगे।