Hide Button

सैमी टिपिट सेवकाई निम्‍नलिखित भाषाओं मे आपको यह विषय प्रदान करती है:

English  |  中文  |  فارسی(Farsi)  |  हिन्दी(Hindi)

Português  |  ਪੰਜਾਬੀ(Punjabi)  |  Român

Русский  |  Español  |  தமிழ்(Tamil)  |  اردو(Urdu)

devotions
संपूर्ण सच्चाई

जब मैंने मसीह को जाना, उस समय मैं अपने मित्रों को उस शांति के विषय बता रहा था, जो शांति मुझे मिली हुई थी। कुछ मेरे मित्र थे, जो (वियतनम) से आए हुए थे और उनके मन उलझे हुए थे, कुछ विकलांग बनकर आए हुए थे यह बहुत ही कठिन समय था। मेरे बहुत से मित्र थे जो रीति-रिवाज को और बाइबल के नैतिक सिधान्तों को बाहर फैंक रहे थे इन्हीं के ऊपर अमेरिका की नींव रखी हुई थी। उन में कुछ नास्तिक बन गए थे। मैं भी शायद उसी दिशा में चला जाता, यदि मेरा सामना परमेश्वर के वचन की सच्चाई से न हुआ होता।

जब मैंने मसीह पर विश्वास किया, तब मुझे जीवन बदलने वाला अनुभव हुआ। मैंने देखा, कि मेरा विश्वासी जीवन युनिवर्सिटी के कुछ प्रोफेसरों के द्वारा चुनौंती पा रहा था, उन में से एक तो ऐसे लगता था, जैसे के उस की यह जिम्मेवारी हो कि वह बाइबल और मसीही विश्वास को गलत साबित करे। वह हर रोज बाइबल में से कुछ बताकर मसीही लोंगो की अपमानित करता था। मैं अपने आप को लाईबे्ररी में पाता था। जहां मैं बाइबल पढ़ता था, कि मैं उन बातों का शोध करू जो बातें प्रोफेसर ने कही थी। हर एक उदाहरण में, मैं देखता था कि वह वचन को गलत तरीके से पेश करता था या उसने अध्याय के सन्र्दभ को बाहर से लिया होता था या फिर वह बाइबल के वचन के अर्थ को अपने मकसद के लिए घुमा-फिराकर पेश करता था।

मैं एक नया मसीही था और मैं सच्चाई को जानना चाहता था जितनी ज्यादा मुझे चुनौती मिलती थी, उतनी ही जल्दी मैं एक बड़े परिणाम पर पहुंच जाता था। - कि बाइबल सत्य हैं। इस पर विश्वास किया जा सकता हैं यह इतिहासिक तौर पर सही, प्रेरित और नैतिक तौर पर सही हैं। इसके सिधान्तों में संस्कृति को बदलने की जाति को बदलने की और देशों की भाषाओं की रूकावटों को बदलने की शक्ति हैं। बाइबल मनुष्य के दिल की गहरी जरूरत को पूरा करती हैं। मैंने विवाह शादियों को सम्पूर्ण होते हुए देखा, टूटे हुए दिलों को जुड़ते देखा हैं और नैतिक वातावरणों को बाइबल के वचनों के द्वारा बदलते हुए देखा। मैंने ऐशियाई लोंगो को, योरिपी लोंगो को, अफ्रीकी लोंगो को, अस्टेªलियाई लोंगो को ऊतरी और दक्षिणी अमेरिकी लोंगो को देखा हैं। जिन्हों ने बाइबल, जो कि चट्टान हैं उस पर अपने घरों को बनाया हैं।

बहुत समय पहिलें (भजन संहिता) लिखने वाले ने कहा था, ”तेरा वचन सच्चा हैं यह वाक्य आज भी 21 वीं सदी में प्रभावशाली हैं। कुछ लोग कहेंगे कि सब कुछ सामान्य हैं इसकी कोई परवाह नहीं, कि तुम क्या विश्वास करते हो, जब तक तुम किसी बात पर विश्वास करते हो। पर मैं चाहता हंू, कि तुम जानों एक पुस्तक हैं जिस पर विश्वास किया जा सकता हैं। इस की प्रवाह हैं कि तुम क्या विश्वास करते हो। समाज और हर एक मनुष्य का रिश्ता विश्वास से बनता हैं और विश्वास सच्चाई पर बनता हैं। तुम अपनी बाइबल को आज खोल कर देखो और अपने लिए सम्पूर्ण सच्चाई को खोजो।