Hide Button

सैमी टिपिट सेवकाई निम्‍नलिखित भाषाओं मे आपको यह विषय प्रदान करती है:

English  |  中文  |  فارسی(Farsi)  |  हिन्दी(Hindi)

Português  |  ਪੰਜਾਬੀ(Punjabi)  |  Român

Русский  |  Español  |  தமிழ்(Tamil)  |  اردو(Urdu)

devotions
एक दीया और एक ज्योति

जब मैं पूरी दुनिया में मसीह के संदेश का प्रचार करने के लिए यात्रा करता हूँ। मैंने यह पाया कि एक बहुत बड़ी जंग हैं जो कि इस पीढ़ी के दिल में चल रही हैं और उस जंग का केन्द्र है सच्चाई। दो राज्य में जंग है। परमेश्वर का राज्य परमेश्वर के वचन की सच्चाई के ऊपर बना हुआ हैं। जब कि शैतान का राज्य झूठ और धोखे से बना हुआ हैं।

इस का सबसे बड़ा प्रमाण पूर्वी युरोप में कामरेडो के अन्धकारमय दिनों में था। बहुत बार जब हम रोमियों की सीमा पर पहुंचते थे, तो हमें तीन प्रश्न पुछे जाते थे। पहिले “क्या तुम्हारें पास कोई हथियार हैं” दूसरे, “क्या तुम्हारे पास कोई अश्लील वस्तु हैं” और आखिर में क्या तुम्हारे पास बाइबल हैं और यह तीन प्रश्न कामरेडो के लिये बहुत ही जरूरी थे। हथियारों का इस्तेमाल तानाशाह की गद्दी पलटने के लिये किया जा सकता था। अश्लील वस्तुए परिवार की इकाई को खत्म कर सकती थी, जो कि एक बुनियादी था जिसके ऊपर कोई भी समाज बन सकता हैं। और बाइबल सब सच्चाई का सोता हैं, और यह अन्धेरे, झूठ और धोखे के राज्य को तोड़ देता हैं। निकोली कासाकू, जो कि रोमानिया का दुष्ट तानाशाह था, वह परमेश्वर के वचन की सच्चाई की ताकत से बहुत डरता था। इसलिए वह हर सीमा तक गया, कि वह बाइबल से छुटकारा पा सके। एक बार सीमा के सिपाहियों ने एक बडे़ बाइबल के भण्डार को देश में आते हुए पकड़ लिया और कासाकू ने आदेश दिया, कि उन बाइबलों को टाॅयलैट के पेपरों के तौर पर इस्तेमाल किया जाए। एक और घटना में कासाकू के कुछ सिपाहियों ने एक वैन में बाइबल के भण्डार को देख लिया था, उन्हों ने वैन को तोड़ दिया और उसके टुकड़े-टुकड़े कर दिये। तुम क्या सोचते हों कि दुष्ट तानाशाह बाइबल से इतना क्यों डरते थे. मैं सोचता हूँ कि मन की गहराई से वह जानते थे कि यह बाइबल सच्चाई का सोता हैं। वह जानते थे कि सच्चाई की ज्योति एक राज्य के अन्धेरे को जो धोखे पर बना हुआ को भगा सकती हैं।

परन्तु मुझे आज्ञा दो कि मैं तुम से एक प्रशन पूछ सकू। यह क्यों हैं कि हम जो एक आजाद सामाज में रहते हैं और हमारी बाइबल तक पहुंच हैं, हम इतना कम समय इस महान पुस्तक को पढ़ने पर क्यों लगाते हैं गैल्प पोल जो अमेरिका में की गई थी, बहुत सारे चर्च जाने वाले लोंगो को यह भी मालुम नहीं था कि यह यीशु था जिसने पहाड़ी उपदेश दिया था। बहुत सारे मसीह लोग बहुत ही अनुशासनहीन हो गए थे, जब कि हम अपने जीवन के चलाने वाली ज्योति को खोने की हद पर हैं। जो हमारे परिवार और समाज के लिए हैं। भजन संहिता लिखने वाले ने कहा, “हे यहोवा, तेरा वचन मेरे मार्ग के लिए उजियाला के समान हैं” (भजन संहिता 119-105) क्या हमने अपना दीपक और अपने उजियाले को खो दिया हैं अभी यह समय हैं आग को जलाए और हमारे दिये जले और अभी यह चमके अभी यह चमके।