Hide Button

सैमी टिपिट सेवकाई निम्‍नलिखित भाषाओं मे आपको यह विषय प्रदान करती है:

English  |  中文  |  فارسی(Farsi)  |  हिन्दी(Hindi)

Português  |  ਪੰਜਾਬੀ(Punjabi)  |  Român

Русский  |  Español  |  தமிழ்(Tamil)  |  اردو(Urdu)

devotions
एक स्थान जिसका नाम कैलस था

कुछ स्थान ऐसे हैं, जिनको देखकर आप दंग रह जाते हो। ऐसा एक स्थान हैं जहां मुझे जाना बहुत अच्छा लगता हैं। मैं पैरिस के आईफिल टावर की बात नहीं कर रहा और न ही मैं चीन की महान् दीवार कर रहा हूँ। मैं ऊतरी आयरलैण्ड के एक गांव कैलस की बात कर रहा हूँ । जब भी मैं वहां की यात्रा करता हूँ । मैं इस बात का विश्वास बनाता हंू कि मैं उस छोटे से गांव में जरूर जाऊगा।

आप सोच रहे होगे कि मैं कैलस को इतना महत्वपूर्ण क्यो समझ रहा हंू। शायद आप ने इसके बारे में नहीं सुना होगा। आप सोच रहे होगे के कैलस इतना खास क्यों हैं। आप ने इसके बारे में कभी नहीं सुना। कैलस में एक मुख्य सड़क हैं और कुछ इमारतें हैं। यह अनजान स्थान पर हैं। इस छोटे से कस्बे के बारे में यह सब से विचित्र हैं। कोई 100 वर्ष पहिले यहां दो बाइबल अध्यापक बहुत ही निराश थे। क्योंकि कोई वचन पढ़ने में रूचि नहीं लेता था। उन्होंने एक स्कूल में मिलना शुरू किया और लोंगो के लिये प्रार्थना करनी शुरू की, कि वह मसीह में आए। ज्यादा समय नहीं हुआ था। कि उनकी प्रार्थना के ऊतर में 50 लोग मसीह में आ गए। पूरे ऊतरी आयरलैण्ड में परमेश्वर के आत्मा की लहर की खबर फैल गई, आत्मा की आंधी पूरे देश में चलने लगी और यह मालुम हुआ कि 10 हजार लोग बैल फास्ट के बोटैनिकल बाग में इकट्ठे हुए और उन्होंने सारी रात प्रार्थना की। जब प्रार्थना की सभा पूरे देश में फैल गई। उसके बाद में आत्माओं की एक बड़ी फसल आई। ब्रिटेन में करीब 10 लाख लोग मसीह की ओर आ गए। लंदन के महान् पास्टर चार्लस हैडन सप्रजन ने कहा,“ यह वर्ष मेरी सेवकाई में सुसमाचार की बड़ी फसल का हैं।“ परमेश्वर ने एक देश को हिला दिया। क्योंकि दो लोंगो ने एक छोटे से गांव में प्रार्थना की थी। इस टेक्नोलाॅजी के युग में मुझे याद करवाया जाता हैं कि हमारे देश की आशा का एक सोता हैं और वह यह प्रार्थना करने वाले पुरूष और महिलाएं यह जरूरी नहीं कि बड़े शहर या महत्वपूर्ण लोग हमारे देश को बदलेंगे। यह लोग हैं जो समझते हैं कि क्यों जकरयाह ने यह सवाल पूछा,“ लोग छोटी-छोटी शुरूआतों में शर्मिन्दा न हो। (जकरयाह 4-10)

इस प्रश्न के बाद ही उसने लिखा,“ न तो शक्ति से, न बल से पर तेरे आत्मा के द्वारा, प्रभु कहता हैं। हां, यह अक्सर छोटे स्थान हैं और अनजान लोग हैं जिन्हें परमेश्वर ज्ञानवानों को शर्मिन्दा करने के लिए इस्तेमाल करता हैं।